Wednesday, September 8, 2010

चुटकुला नंबर - ८

पडोसी : अरे यार तुम तो मरने वाले थे , अब तो बहुत अच्छे लग रहे हो , ये कमाल कैसे हुआ .
पति : मेरी बीबी की मेहरबानी से यार
पडोसी : अच्छा , क्या किया उसने .
पति : उसने बहुत महान काम किया , मेरे भीतर जीवित रहने की इच्छा जागृत कर दी .
पडोसी : अच्छा , वो कैसे भाई
पति : वो मुझे हमेशा के लिए छोड़ कर चली गयी .

16 comments:

ओशो रजनीश said...

क्या बात है ........

यहाँ भी अपने विचार प्रकट करे ---
( कौन हो भारतीय स्त्री का आदर्श - द्रौपदी या सीता.. )
http://oshotheone.blogspot.com

Surendra Singh Bhamboo said...

ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

मालीगांव
साया
लक्ष्य

हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से


कृपया अपने ब्लॉग से वर्ड वैरिफ़िकेशन को हटा देवे इससे लोगों को टिप्पणी देने में दिक्कत आती है।

श्यामल सुमन said...

हा - हा - हा - बहुत खूब विजय भाई।

सादर
श्यामल सुमन
www.manoramsuman.blogspot.com

uthojago said...

wah!

वीना said...

अच्छा चुटकुला है

http://veenakesur.blogspot.com/

डॉ महेश सिन्हा said...

:)

Patali-The-Village said...

वह क्या बात है......

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत खूब

AlbelaKhatri.com said...

waah waah ........

maza aa gaya

राजीव तनेजा said...

हा...हा...हा...

बहुत ही मजेदार

GOPAL KSHATRIYA said...

bahut hi sunder laga ,

नदीम अख़्तर said...

आपका नया चेहरा बहुत ही हंसाने वाला है।

आनन्‍द पाण्‍डेय said...

ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

किसी भी तरह की तकनीकिक जानकारी के लिये अंतरजाल ब्‍लाग के स्‍वामी अंकुर जी,
हिन्‍दी टेक ब्‍लाग के मालिक नवीन जी और ई गुरू राजीव जी से संपर्क करें ।

ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत की कक्ष्‍या चल रही है ।

आप भी सादर आमंत्रित हैं,
संस्‍कृतम्-भारतस्‍य जीवनम् पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के
प्रसार में अपना योगदान दें ।
यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

धन्‍यवाद

अजय कुमार said...

हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

alka sarwat said...

आपका ये ब्लॉग अच्छा लगा

संगीता पुरी said...

इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!